खुश रहने के लिए, दूसरों से अपनी तुलना न करें।

By : FiveMinute  |  Updated On : 02 Apr, 2021

खुश रहने के लिए, दूसरों से अपनी तुलना न करें। Motivational Story in hindi

सोहन एक निम्न मध्यवर्गीय परिवार का 10 साल का लड़का था। वह सड़क के किनारे एक छोटे से मकान में रहता था।

सोहन के घर के दूसरी तरफ एक बड़ा घर था। उस घर में सोहन की उम्र का एक और बच्चा रहता था, जिसका नाम रोहन था।

सोहन हर सुबह अपने पिता के साथ स्कूटर पर स्कूल जाता था, और रोहन महंगी कारों में। इन दोनों परिवारों को देखकर सभी लोग कहा करते थे कि रोहन, सोहन की तुलना में बहुत भाग्यशाली है। क्योंकि रोहन के माता पिता अमीर थे, और  रोहन की हर इच्छा पूरी करते थे। 

हर दोपहर, रोहन अपने घर की दूसरी मंजिल की बालकनी पर खड़ा होता और कई बच्चों को सामने की गली में खेलते हुए देखता। सोहन भी उन बच्चों में एक था। लेकिन रोहन के माता-पिता ने कई कारणों से रोहन को इन बच्चों के साथ खेलने की अनुमति नहीं देते थे।

सोहन के साथ ऐसा नहीं था। नतीजतन, वह हर दोपहर सड़क के कोने पर आ जाता और सब के साथ खेलता। कभी  क्रिकेट, कभी फुटबॉल, कभी लुका-छिपी, कभी कबड्डी और भी कई तरह के खेल।

रोहन दो मंजिला बालकनी पर खड़े होकर, उनके खेल को देखकर मन ही मन रोता था। उसके पास घर में काफी महंगे खिलौने थे। लेकिन रोहन के लिए इन महंगे खिलोनो का कोई मूल्य नहीं थे। उसके पिता व्यवसाय में इतने व्यस्त थे कि वह उसे समय नहीं देते थे। और उसकी माँ क्लब, समाज, खरीदारी में व्यस्त रहा करती थी।

एक तरह से, रोहन सोने के पिंजरे में बंद था। दूसरी ओर, सोहन के पास कुछ ही खिलौने थे, जिसका मूल्य उससे बहुत अधिक था। वह अपने जीवन का आनंद प्राकृतिक नियम के अनुसार बहुत ही सहज तरीके से लिया करता था।

अब आपको क्या लगता है, कि  इनमे से कौन अधिक भाग्यशाली है, रोहन या सोहन? मुझे पता है आप कहेंगे - सोहन।

लेकिन ऐसा नहीं है।  जब सोहन खेल के बीच में आराम करता था , तब वह रोहन के घर को घूरता था और मन ही मन सोचा करता था  - रोहन कितना खुश है! उनके पास कितना बड़ा घर है, कितनी सुंदर कार है। रोहन के पास कितने महंगे खिलौने हैं। वास्तव में रोहन, बहुत खुश रहता होगा! अगर मेरे पास यह सब होता तो कितना अच्छा होता!

इस कहानी से आपने क्या सीखा?
तो दोस्तों, इस कहानी से हमें पता चला कि जब हम अपनी तुलना दूसरों से करते हैं, तो दूसरे अधिक भाग्यशाली लगते हैं। मजेदार बात यह है कि दूसरी तरफ का आदमी भी यही सोचता है जब वह आपको देखता है। जब भी आप दूसरों से अपनी तुलना करते हैं तो आप हीन भावना महसूस करते हैं। और इसे करने से आप दूसरों की तुलना में दुखी महसूस करेंगे।

तो मैं कहूंगा कि खुद को दूसरों की नजरों से देखें, आप देखेंगे कि आप ज्यादा खुश हैं।

सकारात्मक सोचें - सकारात्मक कहें - सकारात्मक महसूस करें।