भारत की महत्वपूर्ण लोक चित्रकला

By : Samarjeet Singh  |  Updated On : 15 Jan, 2021

भारत की महत्वपूर्ण लोक चित्रकला- India's important folk paintings

इस लेख में हम भारत के सबसे महत्वपूर्ण लोक चित्रकला (Folk painting) का नाम लेकर आए हैं, जो सभी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। लोक चित्रकला के प्रश्न विशेष रूप से SSC परीक्षा में आते हैं। प्रत्येक छात्रों के लिए इन नामों को याद रखना बहुत महत्वपूर्ण है।

मधुबनी पेंटिंग (Madhubani painting)भारतीय चित्रकला की एक शैली है, जो बिहार (मिथिला) क्षेत्र में प्रचलित है। यह पेंटिंग विभिन्न प्रकार के उपकरणों के साथ की जाती है, जिसमें उंगलियां, टहनियाँ, ब्रश, नीब-कलम और माचिस शामिल हैं, और प्राकृतिक रंगों और रंजक का उपयोग किया जाता है। विशेष अवसरों, जैसे जन्म या विवाह, और त्योहारों, जैसे होली, सूर्य षष्ठी, काली पूजा, उपनयन और दुर्गा पूजा के लिए अनुष्ठान सामग्री है, जिसमें इस पेंटिंग का उपयोग किया जाता है।

 

वारली पेंटिंग (Warli painting)आदिवासी कला का एक रूप है। इस आदिवासी कला की उत्पत्ति महाराष्ट्र में हुई थी, जहाँ आज भी इसका प्रचलन है। वारली जनजाति भारत में सबसे बड़ी है, जो मुंबई के बाहर स्थित है। वारली जनजाति भारत की सबसे बड़ी जनजातियों में से एक है। वारली पेंटिंग की शैली को 1970 के दशक तक मान्यता नहीं दी गई थी, भले ही आदिवासी शैली की कला का प्रचलन 10 वीं शताब्दी से है।

 

कालीघाट पेंटिंग (Kalighat painting)की शुरुआत 19 वीं सदी में पश्चिम बंगाल में कालीघाट काली मंदिर, कोलकाता में स्थित कालीघाट के आसपास हुई थी। हिंदू देवताओं, भगवान, और अन्य पौराणिक चरित्रों के चित्रण से, कालीघाट चित्र कई विषयों को प्रतिबिंबित करने के लिए विकसित हुए, जिसमें रोजमर्रा की जिंदगी के कई चित्रण शामिल हैं।

 

थांगका पेंटिंग (Thangka painting)एक बौद्ध कला का रूप है और मुख्य रूप से लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, तिब्बत और सिक्किम में प्रचलित है। इस पेंटिंग का विषय बुद्ध के जीवन के चारों ओर घूमता है। वेजिटेबल और मिनरल रंगों का उपयोग थैंगा पेंटिंग्स के लिए किया जाता है।

 

फ्लोर पेंटिंग (Floor painting) भारत की एक प्राचीन और पारंपरिक लोक कला है। यह मुख्य रूप से त्योहारों और समारोहों में खींचा जाता है। इसे विभिन्न नामों से जाना जाता है, जैसे उत्तर प्रदेश में चाक पूर्ण, उत्तराखंड में अयन, राजस्थान में मंडाना, आंध्र प्रदेश में मुगुलु, बिहार में अर्पणा, महाराष्ट्र में रंगोली, पश्चिम बंगाल में अल्पना, गुजरात में आथिया, कर्नाटक में रंगवाली, कर्नाटक में कोल्लम, तमिलनाडु, हिमाचल प्रदेश में अरोफ और केरल में कलमा जट्टू।

 

पिथौरा पेंटिंग (Pithora Painting) मध्य प्रदेश में रहने वाले राठवा और भिलाला जनजातियों द्वारा दीवारों पर की गई एक पेंटिंग है। इन चित्रों का उनके जीवन में महत्व है और पिथोरा चित्रों को अपने घरों में निष्पादित करने से शांति, समृद्धि और खुशी मिलती है।